शनिवार, 6 फ़रवरी 2010

अनिल चमड़िया एक अनैतिक टीचर हैं: विभूति नारायण राय को जबाब

मीडिया फार भड़ास पर प्रकाशित साक्षात्कार के संदर्भ में .............
अफसोस, अफसोस इस बात का कि पुरानी कहावतों से विभूति जी कुछ नहीं सीख सके (उल्टा चोर कोतवाल को डांटे), अफसोस कि एक अच्छा आदमी बनने के लिये जिस सब्र की जरूरत है वह नहीं रही, अफसोस कि आप एक अच्छे छात्र भी आप नहीं बन सके, अफसोस कि आप अपने चिंतन में इतने थोथे निकले.... मसलन आप इतने झूठे निकले कि आपने अनिल चमड़िया के हेराफेरी के कारण परीक्षा तो करवायी, पर उन पर कोई कार्यवाही नहीं की, आपने यहाँ यह नहीं बताया कि उस प्रक्रिया में राम मोहन पाठक से लेकर, उप-कुलपति तक फंसे, आपने यह भी नहीं बताया कि दुबारा जो परीक्षा हुई उसमे जामिया के एक चोर गुरू और अनिल अंकित राय के सहयोगी चोर दीपक के.एम. ने कापी जाँची. क्या आप जबाब देंगे कि अनिल चमड़िया पर उस समय क्या कार्यवाही की गयी और नहीं तो क्यों?
दरअसल एकपक्षीय रिपोर्टिंग इसे कहते हैं विभूति जी, क्या यह सच है कि आरोप वही लोग लगा रहे हैं जिनके स्वार्थ आपसे पूरे नहीं हो पाये तो क्या जो आपके साथ खड़े हैं उनके स्वार्थ पूरे हो चुके हैं या भविष्य में आप उन्हें पूरा करेंगे. जिन्दगी, संघर्ष और लड़ाईयां कई बार स्वार्थ से ऊपर उठकर भी लड़ी जाती हैं, इस तरह के खोखले तर्क निश्चिततौर पर दुनिया की जुझारु लड़ाईयों और लड़ने वालों के लिये भद्दे मजाक ही हैं. हिन्दी वि.वि. के मीडिया विभाग का रजिस्टर चेक कर लिजिये और छात्रों से पूंछ लिजिये क्या अनिल चमड़िया से अधिक और अच्छा क्लास किसी अध्यापक ने लिया है, पर आप छात्रों से पूंछने के नाम पर उनसे पूंछेगे जिन्हें स्टूडियो प्रभारी बनाने की बात या लेक्चरर बनाने की बात अनिल अंकित चला रहे हैं शायद......पर आपके कहने पर अनिल चमड़िया ने क्लास लेना शुरु किया इसको प्रस्तुत करने का आपका तरीका उनसे वाकई दुराग्रहपूर्ण लगता है. क्योंकि मामला क्लास लेने का नहीं था, मामला था कि क्लास, क्लासरूम में अनिल चमड़िया नहीं ले रहे थे और छात्रों को अपने चैम्बर में बुलाकर ४० मिनट के बजाय २ घंटे की क्लास लेते थे क्योंकि क्लास रूम में आवाज गूंजती थी. जिसपर छात्र तो खुश थे पर अनिल राय अंकित ने आपसे शिकायत की और कहा कि अनिल चमड़िया कक्षा में नहीं पढ़ाते. जिसे आप यहाँ प्रचारित कर रहे हैं क्योंकि आपके पास तर्क नहीं है. इसलिये आपकी दोनों बातें झूठी नहीं तो आधार विहीन हैं. निश्चित तौर पर जातिवादी कहने से आप जातिवादी नहीं हो जायेंगे, न ही महिला विरोधी कहने से महिला विरोधी पर आपके व्यवहार यह तय करेंगे कि आप क्या हैं. पिछले दिनों छात्रों की एक बैठक में कुछ छात्राओं ने कहा कि आप अश्लील शब्दों के साथ बात करते हैं इसलिये वे आपसे बात-चीत करने का जो कि छात्र प्रस्ताव रख रहे थे को वे छात्रायें मना कर रही थी. आपके कथन को ही वे दोहरा रही थी कि छात्र तुम लोगों को टाफी समझते हैं. तुम्हारी स्वतंत्रतायें छात्रावासों के कमरे तक ही सीमित क्यों है? व अन्य अन्य.
गाली गलौज की भाषा में ब्लाग या कहीं भी बात करना गलत है पर अब तक अनिल चमड़िया और आपसे जुड़े इस विवाद में जितने प्रकाशन हुए हैं उनकी टिप्पणियों पर यदि शोध किया जाय तो आपके पक्ष में खड़े ज्यादातर लोगों की भाषा निहायत गंदी रही है. क्या यह पक्षधरता समरूपी चेतना का परिचायक नहीं है या फिर यह भी कहा जा सकता है कि आपकी तरफ से जो लोग लामबंद हुए हैं वे बेहद स्तर विहीन तरीके से सामने आये हैं, तो एक बार जरूर सोचना चाहिये कि ये कौन लोग हैं जो पूरे बहस को कुचर्चा में बदलना चाहते हैं क्योंकि इस पर एक स्वस्थ बहस हो इससे आपको भी एतराज न होगा. आपने ब्लाग माडरेटरों से सवाल किया कि सम्पादक के रूप में वे किसी दलित को क्यों नहीं रख लेते? इसका क्या आशय लगाया जाय क्या यह कि मसले से महत्वपूर्ण जातियां हैं. मैं आपको आपके विश्वविद्यालय का एक आंकड़ा देता हूं जिसे मैंने कहीं पढ़ा है इसलिये अगर वह स्रोत गलत हो तो मुझे क्षमा कीजियेगा आपके विश्वविद्यालय में एक मात्र छात्रावास है जिसका नाम सावित्री बाई फुले के नाम पर है, आपके वि.वि. में एक मात्र अस्पताल है जो अम्बेडकर के नाम पर है, आपके वि.वि. में अम्बेडकर जनजातीय अध्ययन जैसे विभाग चलते हैं, आपके वि.वि. में छात्रों की कुल संख्या २४७ है जिसमे १०० से अधिक अम्बेडकर स्टूडेंट फोरम के सदस्य है, यानि दलित छात्र बहुलता में हैं और आपके विश्वविद्यालय में ही एक माह तक दलित छात्रों को आंदोलन करना पड़ता है और न्याय नहीं मिल पाता, आपके द्वारा ही दलित अध्यापक को अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस की रैली में भाग लेने पर धमकाया जाता है, जो आस्थायी नियुक्तियां आपने की हैं उसमे एक भी दलित शामिल नहीं है.
ये दस्तावेज आप पढ़ सकते हैं
१- सुनो विभूति, तुम सेकुलर जातिवादी हो
लिहाज़ा हम आपके इस झूठ, तथ्यविहीन और अनैतिक वक्तव्यों का क्या मायने लगायें. क्या यह कि प्रोपोगेंडा करके आप चल रही इन बहसों पर “मोहल्ला में कर्फ्यू” लगवाना चाहते हैं.
आपका पूर्व और सकारात्मक कार्यों का अब भी प्रसंसक छात्र.
वर्धा मेल से प्राप्त

7 टिप्‍पणियां:

  1. मित्रों यहां जब अविनाश और यशवंत जैसे लोगों पर पाठक-प्रतिक्रियाओं के साथ छेड़छाड़ किए जाने के आरोप लग ही चुके हैं तो यहां प्रस्तुत है इन दोनों के साथ - साथ जनतंत्र तथा अन्य वेब-ब्लॉग के मोडरेटरों द्वारा मोडरेटरेट किए कुछ प्रतिक्रिया, जो सिर्फ नमूना है, जिसे मोडरेटरेट कर प्रतिक्रिया और खबर दोनों को एकतरफा बना दिया जाता है, ये सभी प्रतिक्रिया मैंने चमड़िया जी से जोड़कर चलाए जा रहे प्रकरण के बीच ही इकट्ठे किए हैं, जो शाम को तो दिखते थे पर सुबह गायब रहते थे, कुछ तो घंटे भर भी नहीं रह पाते थे . शुरू-शुरू में यह मेरे लिए बहुत आश्चर्यजनक था, फिर मैं इन प्रतिक्रियाओं को यही सोच कर इकट्ठा करने लगा कि वेब-ब्लॉग के निष्पक्षता के विरूद्ध लिखने के काम आएगा | चलिए यहां प्रतिक्रिया के रूप में ही सही, किसी के द्वारा लिखी गई प्रतिक्रिया लोगों के सामने तो आ रही हैं . मेरे द्वारा इकट्ठे किए गए सभी प्रतिक्रियायें निम्नलिखित हैं -
    written by Ramesh Parashar, January 30, 2010
    अनिल चमड़िया का ये कहना कि वे दलित हैं, 100 फीसदी झूठ है। श्री चमड़िया पत्रकारिता में मौका पाने के लिए स्वयं को दलित कहते हैं। इनका तथाकथित दलित प्रेम भी एक स्वांग है क्योंकि अनिल जी और इनके परिवार को दलितों से कोई लेनादेना नहीं है। अनिल चमड़िया न जाति से और न कर्म से दलित हैं। बल्कि वे जाति से मारवाड़ी बनिया और बड़े व्यवसायी परिवार से ताल्लुक रखते हैं। इनकी शिक्षा सासाराम में ही हुई है। अत: हर व्यक्ति इनके बारे में अच्छी तरह जानता है। इनका विवाह सासाराम शहर के बड़े वैश्य परिवार गिरीश चन्द्र जायसवाल की बेटी से हुआ है। जिनका शहर में दर्जनों मकान, मार्केट और व्यापार है। अन्य भाइयों और बहन की शादियां भी बड़े मारवाड़ी व्यापारी परिवार में हुई है। इनके परिवार के किसी भी दूर के रिश्तेदार का भी वैवाहिक सम्बंध किसी दलित परिवार से नहीं है। अनिल चमड़िया और उनके परिवार का एक संक्षिप्त परिचय-
    अनिल चमड़िया, पिता स्व. राम गोपाल चमड़िया, निवासी -हरे कृष्ण कॉलोनी, कंपनी सराय, थाना- सासाराम, जिला-रोहतास, बिहार, अपने पांच भाई और एक बहन में सबसे बड़े हैं। इनके अन्य भाइयों का नाम सुनील चमड़िया पेशे से चार्टर्ड एकाउटेंट, आलोक चमड़िया और अमित चमड़िया पेशे से पत्रकार और अशोक चमड़िया पारिवारिक गल्ले के व्यवसाय में हैं। बहन प्रीती चमड़िया का विवाह हो गया है। इनके परिवार का लगभग 30-35 वर्षों से गल्ला के थोक दलाली का व्यवसाय है, जिसे पूर्व में इनके पिता और अब भाई संचालित करते हैं। ये लोग मूलत: मध्य प्रदेश के सागर शहर के निवासी हैं। जो बाद में व्यवसाय हेतु सासाराम आ गए थे। इनका परिवार सासाराम शहर के बड़े व्यवसायी मारवाड़ी परिवारों में शुमार होता है। अनिल चमड़िया के चचेरे चाचा श्री मनोहर लाल जी अपने ननिहाल के धन पर सागर से सासाराम आए। यहां आकर इन्होने अपनी सरनेम चमड़िया की जगह पोद्दार लिखना शुरू कर दिया, क्योंकि इनके ननिहाल का उपनाम पोद्दार था। मनोहर लाल जी चूंकि अपने ननिहाल के घर पर आए तो इन्होंने अपना उपनाम पोद्दार रख लिया। परन्तु अनिल चमड़िया के पिता ने अपना मूल मारवाड़ी उपनाम चमड़िया बरकरार रखा। जो आज तक चला आ रहा है। श्री अनिल चमड़िया के दादा का नाम महावीर प्रसाद चमड़िया था, जो म.प्र. के सागर शहर में व्यवसाय करते थे। बाद में सासाराम आने से पहले इनके पिता और चाचा ने वहां की संपति बेच दी। आज श्री चमड़िया के परिवार के पास शहर और उसके आसपास करोड़ों का व्यवसाय पत्रकारिता के धौंस पर बखूबी चलता है। इनके और इनके भाइयों के पत्रकारिता की धौंस हमेशा इन लोगों के व्यवसायिक हितों के काम आई है।
    चमड़िया के सरनेम वाले श्री सीताराम चमड़िया कांग्रेस के जमाने में बिहार सरकार के मन्त्री हुआ करते थे। जो मारवाड़ी बनिया थे। अनिल जी शायद देश के पहले स्वघोषित दलित हैं, जिन्होंने दलित जुमले का इस्तेमाल अपने पत्रकारिता के करियर को चमकाने में किया है। लेकिन श्री चमड़िया पहले शख्स होंगे, जो गैर दलित होते हुए दलित के नाम पर सहानुभूति लेते हैं। मैं पत्रकारिता जगत से जुड़ा हुआ इनके तहसील का ही निवासी हूं। इसलिए इनसे जुड़ी हुई सारी जानकारी आप लोगों के सामने रख रहा हूं। इनके दलित होने और दलित प्रेम का खुलासा करना अभी बड़ा मौजूं था क्योंकि मैं भी बेसब्री से इस वक्त का इन्तजार कर रहा था। आशा है आपको यह तहकीकात अच्छी लगेगी।
    रमेश पराशर
    पत्रकार
    rameshp125@rediffmail.comrameshp125@rediffmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. continue.....
    bebak:

    भारतीय ब्लॉगिंग दुनिया के समस्त ब्लॉगरों से एक स्वतंत्र पत्रकार एवं नियमित ब्लॉग पाठक का विनम्र अपील-
    संचार की नई विधा ब्लॉग अपनी बात कहने का सबसे प्रभावी माध्यम बन सकता है, परन्तु कुछ कुंठित ब्लॉगरों के कारण आज ब्लॉग व्यक्तिगत कुंठा निकालने का माध्यम बन कर रह गया है | अविनाश (मोहल्ला) एवं यशवंत (भड़ास 4 मीडिया) जैसे कुंठित
    ब्लॉगर महज सस्ती लोकप्रियता हेतु इसका प्रयोग कर रहे हैं |बिना तथ्य खोजे अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर खबरों को छापना उतना ही बड़ा अपराध है जितना कि बिना गवाही के सजा सुनाना | भाई अविनाश को मैं वर्षों से जानता हूँ - प्रभात खबर के जमाने से | उनकी अब तो आदत बन चुकी है गलत और अधुरी खबरों को अपने ब्लॉग पर पोस्ट करना | और, हो भी क्यूं न, भाई का ब्लॉग जाना भी इसीलिए जाता है|

    कल कुछ ब्लॉगर मित्रों से बात चल रही थी कि अविनाश आलोचना सुनने की ताकत नहीं है, तभी तो अपनी व्यकतिगत कुंठा से प्रभावित खबरों पर आने वाली 'कटु प्रतिक्रिया' को मौडेरेट कर देता है | अविनाश जैसे लोग जिस तरह से ब्लॉग विधा का इस्तेमाल कर रहे हैं, निश्चय ही वह दिन दूर नहीं जब ब्लॉग पर भी 'कंटेंट कोड' लगाने की आवश्यकता पड़े | अतः तमाम वेब पत्रकारों से अपील है कि इस तरह की कुंठित मानसिकता वाले ब्लॉगरों तथा मोडरेटरों का बहिष्कार करें, तभी जाकर आम पाठकों का ब्लॉग या वेबसाइट आधारित खबरों पर विश्वास होगा |
    मित्रों एक पुरानी कहावत से हम सभी तो अवगत हैं ही –
    'एक सड़ी मछली पूरे तालाब को गंदा कर देती है', उसी तरह अविनाश जैसे लोग इस पूरी विधा को गंदा कर रहे हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  3. continue......
    डा.गोविन्द said...
    इस लेख के लेखक जो कथादेश के मीडिया अंक के संपादक हैं इनकी कूपमंडूकता का सही चेहरा किसी से छुपा नहीं है.जिसके बारे में अनंत विजय साहब ने अपने ब्लौग पर लिखा है.जिसका लिंक है-
    http://haahaakar.blogspot.com/
    साथ में इस महोदय के चरित्र के बारे में कुछ मैं यहां बता दे रहा हूं.कथादेश के मीडिया अंक के अतिथि संपादक महोदय ने इस अंक में रद्दी के तरह के अपने कई लेख तो छापे ही हैं,साथ में अपने साथ शराब पीने वाले उन छात्रों का लेख भी छापा है जिनका ज्ञान दो कौड़ी के लाएक भी नहीं.उनके विश्वविद्यालय के सूत्रों के अनुसार-चूंकि विश्वविद्यालय में छात्रों की संख्या कम थी इसलिए उन्हें किसी तरह एम.ए.की परीक्षा में पास कर दिया गया,वे वैसे छात्रों को लेखक बनाने में जुटे हैं जिनका एम.फिल. में दाखिला भी प्रो.इलिना सेन की कृपा से हुआ.यह इलिना सेन हैं जो शायद उस विश्वविद्यालय को ढोंगी कम्युनिस्टों से भरने का जिम्मा उठाई थीं,जिन्होंने अपने ढोंगी कम्युनिस्ट छात्रों को,जो लिखित में 36 नम्बर पाए थे उन्हें 95 नम्बर देकर दाखिला दिलाया और फिर ढोंगी कम्युनिस्टों के लिय पी-एच.डी. का रास्ता भी खोल दिया. दिल्ली के हमारे मीडिया मित्रों को पता ही है कि अनिल चमड़िया जो खुद ढोंगी हैं,के ये प्रिय छात्र जिन्हें वे लेखक बनाने की कोशिश किए हैं उनका दाखिला पी-एच.डी.में कैसे हुआ ये किस्सा भी कम दिलचस्प नहीं.इसलिये इन महान लेखकों का पोल खोलने की कोशिश करें,अगर इन महान लेखकों के चरित्र को खंगालने के बाद इनके कचड़े लेखों पर प्रकाश डालना चाहें तो या आपके कोई और पाठक इन दो कौड़ी के लेखकों के बारे में और इस कथादेश के अतिथि संपादक के चरित्र के बारे में जानना चाहें तो इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं-
    http://voiceofmedia.com/vom_voice
    यहां अतिथि संपादक अनिल चमड़िया के प्रिय मगर नालायक और नाकाबिल छात्र,जो इस अंक में लेखक भी हैं(भले ही हाथी,घोड़े पर चार लाईन लिखने की काबिलियत भी ना रखते हों)को उस विश्वविद्यालय में बनाए रखने के लिए जहां वे किसी तरह शिक्षक बन गए हैं,किस तरह का जोड़-तोड़ किया गया और कैसे प्रतिकुलपति ने कुलपति के अनुपस्थित होने का फायदा उठा कर(कुलपति उस समय विदेश यात्रा पर थे) उस जोड़तोड़ की अगुआई की और अनिल चमड़िया के कहे अनुसार उनके प्यारे लेखक-छात्रों को हर हथकंडा अपनाते हुए पी-एच.डी.प्रवेश परीक्षा में उतीर्ण करवाया.जिसे लेकर बेवजह वहां के कुलपति महोदय की भी बदनामी हुई.विश्वविद्यालय सूत्र यह भी बताते हैं कि वैसे इसकी कोशिश पूर्व में हुए पी-एच.डी.प्रवेश परीक्षा,जिसमें चमड़ियाजी खुद विषेशज्ञ के रुप मे बैथे थे में भी चमड़ियाजी ने किया था,जिसका रिजल्ट कुलपति द्वारा कैंसिल कर दिया गया था.पर प्रतिकुलपति ने अपनी करनी से कुलपति के सारे किए-कराए पर पानी फेर दिया.मेरे ये सब लिखने का आशय इतना है कि अतिथि संपादक अनिल चमड़िया का वास्तविक चरित्र सामने आए और पता चले की कैसे-कैसों को लिखने का मौका अतिथि संपादक महोदय ने दिया है और खुद तथा लेखक-छात्रों से इसे मीडिया के हैण्डबुक के रुप में प्रचारित करवा रहे हैं.इसके सभी वे लेखक जो अतिथि संपादक के छात्र हैं मीडिया का एम तक नहीं जानते.बात इतनी तक रही होती तब भी ठीक था पर विश्ववस्त सूत्रों के अनुसार अपनी खोखली विद्वता दिखाने के लिए उन्होंने विश्वविविद्यालय में अपने पिटठूओं के माध्यम से कथादेश के इस अंक पर चर्चा का आयोजन भी करवाया.....
    continue.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ...
    written by rinkoo singh, January 30, 2010
    anil chamadiya ki kundali ye sabit karne ke liye kafi hai ki dalit shabd ka kitna najayaj istemal kiya ja raha. anil ji se main ek baat puchna chahta hu ki mera ek bahut hi kabil dost hai accountency ki field me lekin wo keval b.com 3rd division hi pass. jis company me kam karta hai waha se hamesh prashasti patra pata rahta hai. wo iss field me 10 salo se hai. kya aap usko desh ke kisi college me commerce deptt. me accounts ka professor banwa sakte hain. nahi. to phir aap ko kyo professor banaya gaya tha.aapke dost kripa ji media teaching ke baare me badaavachan karte hain unko bhi iss per apni baat kahani chahiye.aap professor shayad iss liye banaye gaye ki jin naxlites ko desh ki sarkar atankvadi manti hai unhe aap bbc ka journalist bata kar class me introduce karwate the. khair ye kam to aap ke ghanishth mitra kripa shankar ji karne ke liye hain hai hi. aap ke baare me yahi kaha ja sakta hai ki MAAR PADI SHAMSHIRO KI TO MAHARAJ MAIN NAAI HOON.

    ...
    written by kanhaiya kumar, Guwahati, January 30, 2010
    anil chamariya ka mahimamandan karne wale mere bhai. lagta hai ki app bhi chijo ko tor maror kar pesh karne mein mahir ho. apni galat bayani ka jariye hazaro student ki kismat se khilwar mat karo mere bhai. varna bhai vijay tumhare nam ki viprit log tumhare karm ke aadhar per parajay kahna shuru kar denge

    • pragati said:
    लगता है चामड़िया जी शौर्ट टर्म मेमोरी के शिकार हो गए है, प्रोफेशर पद से हटाए जाने के बाद अपनी पहली ही प्रतिक्रिया में लिखते हैं-मेरा दलित और दलितवादी होना भी वीएन राय को बुरा लगा. और इस लेख में लिखते हैं- “न किसी से जाति पूछता हूं, न किसी को जाति बताता हूं”. बताईए अपना ईलाज कराने के लिए कांके(रांची)जाएंगे या आगरा या गजनी के डा. से संपर्क किया जाए?
    # 31 January 2010 at 6:49 pm

    tota ram said:
    are bahi jati kaise batyegel jab jati hi badl liye ho.
    # 31 January 2010 at 6:52 pm
    • bebak said:
    इस लेखक महोदय
    अनिल चामड़िया को मैं टीवी.-9 के जमाने से जानता हुँ और किस बड़े चैनल के दिग्गजों की बात आप कर रहे हैं?
    टीवी.-9 में काम करने के समय भी उन्हे गंदी राजनीति और स्वहित के लिए दलित तथा दलितमुद्दों का दुरुपयोग करते देखा है.मुझे पुरा यकिन है कि वह लोगों को गुमराह करने के अलावे कुछ कर ही नहीं सकते|जिन शुरुआती दिनों की बात आप कर रहे हैं उन दिनों मैं उनका जुनियर था,बहुत अरमान लेकर मैं वहां ज्वाईन किया था कि चामड़िया जी से कुछ सिखुंगा,पर उनकी गंदी रजनीति से परेशान होकर चैनल मालिक ने चैनल ही बंद कर दिया|
    उस सौदेबाजी में भी चामड़ियाजी ने बहुत कमाए पर हम जैसे मिडिया कर्मी जो सपने लेकर वहां गए और उनके बहकाबे में नहीं आए, उनकी आवाज वह कभी नहीं बने.
    और जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल आप कर रहे हीं उससे स्पष्ट झलक रहा है कि आपको किस तरह की गंदी घुट्टी चामड़िया जी ने पिलाई है. अगर संभव है तो खुद को अभी भी बचा लिजिए.
    # 30 January 2010 at 9:22 pm

    उत्तर देंहटाएं

  5. bebak said:
    आप दुसरों की लाईन छोटी कतने की क्यों सोचते हैं चामड़िया जी अपनी लाईन बड़ी कर लिजिए दुसरों की लाईन छोटी करने के चक्कर में तो आपकी लाईन ही मिटती जा रही है|
    # 30 January 2010 at 9:29 pm

    ritesh said:
    चामड़ियाजी आपके अंदर जो कुंठा भरी है वह इतनी स्तरहीन होगी की विश्वविद्यालय छोड़ते ही सजातीय और विजातीय की बात करने लगेंगे ऐसा किसी ने सोचा भी नहीं था.वैसे तो दुसरे विभाग के शिक्षक होने के नाते मेरा आपसे मिलना-जुलना कम होता था पर आप इतने छिछले होंगे, ऐसा कभी सोचा भी नहीं था.खाशकर जब TBI के जमाने के आपके कारनामें जो अलग-अलग रुपों में आज तक जारी है, के बारे में पढा तो यही सोचने में आया कि अगर आपका जमीर तनिक भी खुद को शिक्षक मानता है या जब पहली बार ही आप शिक्षक बनना चाहे, उसी समय आपको एक चुल्लू पानी की तलाश करनी चाहिए थी, अब उस एक चुल्लू पानी में आपको क्या करना है यह बताने की जरुरत नहीं है.
    # 30 January 2010 at 9:33 pm

    vabhav said:
    संज्ञान में आया है कि इस पूरे घटनाक्रम के पिछे उनके पूराने मित्र ‘चौबेजी’ हैं,जो शुरु से ही मौके की तलाश में थे,जैसा कि एक मानव स्वभाव माना जाता है कि अपनों-दोस्तों का आगे निकलना कुछ ज्यादा ही तकलिफदेह होता है,वैसे ही रिडर बने चौबे जी चामड़ियाजी का प्रो. बनना पचा नहीं पा रहे थे तथा मौका मिलते ही उनको विश्वविद्यलय से बाहर का रास्ता दिखलाने की कोशिश में लग गए और सुनने में आया है कि उनकी गिद्ध नजर तो उनकी पोस्ट पर अभी भी लगी है..
    # 30 January 2010 at 9:36 pm

    एक विश्वविद्यालय कर्मी said:
    चुंकि मैं विश्वविद्यालय के लगभग प्रारम्भिक दौर से किसी न किसी रुप में जुड़ी हुई हूं,इसलिए विश्वविद्यालय को किसी ‘बक्से’ में बन्द करने,’वाद’ में संकुचित करने अथवा अनावश्यक विवाद खड़ा कर उसे बदनाम करने की साजिश रचने से बेहद आहत हूं.क्या अनिल चमड़िया इस बात की ओर गौर फरमाने की कोशिश करेंगे कि कक्षा में उनकी विषयगत अज्ञानता किसी भी छात्र से छुपी नहीं है और उनके गिने चुने शब्दों और उदाहरणों (जैसे-साधारण नमक कैसे आयोडिन नमक बना और जब मैं एक टेलीविजन चैनल में था तो मुझे कैसे ग्राहक के बदले कंज्यूमर लिखने के लिए कहा गया)को सुन-सुन कर छात़्रों के कान पक चुके हैं.जिसकी चर्चा करते उनके छात्र परिसर में इधर -उधर कहीं भी मिल जाते हैं.अब विषय की पढाई कर अपनी अज्ञानता कम कर खुद को अपडेट करने का उनके पास बेहतरीन मौका है, बेचारे अनिल चमड़िया मानसिक रुप से बिमार चल रहे हैं.इसलिए पहले अपनी बिमारी का इलाज करा लें जिससे उन्हे अपनी हकिकत का पता चल सके,संभव है उन्हें कभी अपनी गलती महसूस न हो और वह दूसरों पर ही किचड़ उछालते रहें और आप जैसे पत्रकार पत्रकारिता कम और इनकी चाटुकारिता अधिक करते रहें|पर अगर बिमारी ठिक हो जाए और अपनी गलतियों को महसूस कर सकें तो पहले एम.ए. कर लें,कहीं और से क्यों इसी विशवविद्यालय में आकर नमांकन करा लें|फिर प्रो. बनने का सोंचें|
    # 30 January 2010 at 9:44 pm

    एक विश्वविद्यालय कर्मी said:
    शिखा चौधरी उर्फ चौबेजी, क्या करूं औरों को तो नहीं जानता पर ‘मैं’वर्तनी शोधक समिती में तो हूं नहीं. और, शायद आपको पता नहीं online typing की अपनी limitations होती है. सभी को आपकी तरह हिन्दी typing नहीं आती. आपका चरित्र भी कम संदेहास्पद नहीं है. विश्वविद्यालय में तो भिगी बिल्ली बने फिरते हैं पर चुपके से नाम बदल-बदल कर लेख/प्रतिक्रिया लिखने में भी लगे हुए हैं.वैसे चोर-चोर मौसेरे भाई होते ही हैं.लगे रहीए..
    # 31 January 2010 at 6:44 pm

    उत्तर देंहटाएं
  6. Ramesh Parashar said:
    mr chamariaji lekh likhane se dunia nahi badalti. acharan se badalti hai .farji tarike se profesor banakar bina class liye 700000 wetan utha rahe the is par kabhi sharm nahi aai. 15 august ko jhandarohan me anupasthit hone ka jo gunah kiya, us par kabhi sochaa tha, aapko to turant usi smay terminet kar dena chahiye tha.aap to sukrira kahiye vc mahoday ka jo itne dino tak aapko maph karte rahe..
    # 31 January 2010 at 7:01 pm
    आनंद said:
    कृपाशंकर चौबे पश्चिम बंगाल से अपनी “रिपोर्टों” में वहां के “दमित-शोषित और पीड़ित” जनता के दुखों को “सामने” लाने का “क्रांतिकारी” काम करते रहे हैं। क्या उन्हें वर्धा विश्वविद्यालय में हो रहा जातिवादी नंगा नाच नहीं दिखाई देता।
    आवेश तिवारी के साथ बातचीत में वे कहते हैं कि वे पूरी तरह विभूतिनारायण सिंह के साथ है जिसने आरोप लगाया है कि अनिल चमड़िया छात्रों के साथ बैठ कर दारू पीते हैं। विस्फोट पर छपे अपने वक्तव्य का खंडन नहीं करते और निजी रूप से मोहल्ला को कहते हैं कि वे पिछले पच्चीस सालों से अनिल चमड़िया के मित्र रहे हैं और वे जानते हैं कि अनिल चमड़िया शराब नहीं पीते।
    अगर उनकी “बंगाल क्रांति” के नीचे जरा भी जमीर रहा हो, तो खुल कर सच के साथ आना चाहिए। पता चला है कि वे अब मोहल्ला को दिए गए बयान से पलट रहे हैं। खैर, पेंडुलमता और पर्दा के पार उनका चरित्र यही रहा है, इसलिए उनसे बहुत उम्मीद नहीं किया जाना चाहिए। वर्धा विश्वविद्यालय के दलित छात्र भी चौबे के सवर्णवादी बर्ताव की शिकायतें करते हैं।
    # 3 February 2010 at 2:43 pm
    aam admi said:
    कृपाशंकर चौबे जी,
    आप “क्रांति” करते-करते पलटबयानी की “पोलिटिक्स” भी करने लगे !
    कोई बात नहीं. यह दौर ही कुछ ऐसा है कि ” मलाई” पलटबयानी की “पोलिटिक्स” से मिलती है, क्रांति से नहीं.
    # 3 February 2010 at 4:34 pm
    Sharad said...
    चमाडिया जी जिन छात्रों को बेवकूफ़ बनाकर कम निकाल रहे है असल मे वे वैसे है नही. अस्तु अनिल मिस्र जो क्रन्तिकारी होने का दम्भ भरता है उसकि हैसियत प्यादे की है.एम फ़िल के लिखित परीक्षा मे ३६ नं और साकक्षातार मे ९० नं . यह है मानवाधिकार की लडाइ लड्ने वाले विनयक सेन कि पत्नी एलिना सेन का कमाल. यही नही अनुपस्थित क्षात्र को भी अंक दिया एलिना ने .पर क्म्युनिस्त कुल्पति ने दंड नही दिया. आपको बिना अर्हता के प्रोफ़ेसर बना दिया. ज्वाइन करते समय शर्म आइ कि नही. विवि मे क्लास नहि लेते पर दिल्ली मे जरूर क्लास लेने आयेंगे. शाबाश मिट्टी के शेर

    उत्तर देंहटाएं
  7. continue.....
    अन्नू said...
    प्रकाश जी,आपने एक कहावत सुनी होगी सड़े आम की संगत में बाकी आम भी सड़ जाते हैं.पर जब पेड़(अनिल चमड़िया) ही सड़ा हो तो उनसे निकले फल तो निश्चित ही सड़े होंगे.अब सड़े फल से अच्छे स्वाद की उम्मिद रखना तो हमारी बेवकुफी होगी ना....
    अब गुरु अनिल चमड़िया जैसे शब्द सिखाएंगे उन्हीं शब्दों का इस्तेमाल ना उनके प्रिय "यार-मित्र" करेंगे.अब आप सोचेंगे कि मैं "यार-मित्र" का प्रयोग किसलिए किया हूं तो.....
    जब मिल बैठेंगे सब यार,हम तुम और बैगपाईपर....
    अब आगे लिखने की जरुरत नहीं,आप सभी समझ गए होंगे,जब हम,तुम और बैगपाईपर तब छात्र कहना उचित नहीं,"यार-मित्र" कहना ज्यादा उचित है.अब नादानों को माफ भी कर दिजिए......
    गुरुजी के साथ-साथ बेचारे को "यार-मित्र" कहिए या छात्र,यह भी नशे में हैं.
    aam aadmi:
    bebaak ji aap sahi kah rahe hai. is tarah ki kuntha na likhi jaye to achha hi hai.
    par aap bhi bad me usi raste par chale gaye hai.
    aap hi gabhir rahate .aap to sabakaa nam le rahe hai aur ek khas jati par aakraman theek nahi. koi ganda kam kar raha hai to karane de.kaun pochhata hai aisee chhijo ko.isase bloginging ka uddeshya poora nahi hoga

    उत्तर देंहटाएं